डीएनए और आरएनए में अंतर |DNA और RNA में अंतर है?| Difference between DNA & RNA

यदि आपको डीएनए और आरएनए में अंतर को जानना है तो इस पोस्ट को पढ़कर आपको Difference between DNA and RNA समझ आ जएगा।

topperhub.com – आपको यह पहले यह बताना चाहता है कि डीएनए और आरएनए में अंतर समझने से पहले हमें यह समझना होगा कि डीएनए किसे कहते हैं? आरएनए किसे कहते हैं? डीएनए के कितने प्रकार होते हैं? आरएनए के कितने प्रकार होते हैं? डीएनए की खोज किसने की थी? आरएनए की खोज किसने की थी?

DNA और RNA में अंतर/Difference between DNA and RNA

डीएनए और आरएनए में अंतर
डीएनए और आरएनए में अंतर
डीएनए (DNA)आरएनए (RNA)
डीएनए का मतलब होता है (डीऑक्सीराइबोज न्यूक्सिक्लिक एसिड/Deoxyribo Nucleic Acid)आरएनए का मतलब होता है राइबोन्यूक्लिक एसिड (Ribose Nucleic Acid)
डीएनए मुख्य केंद्रक में पाया जाता है।आरएनए मुख्य केंद्र तथा कोशिका द्रव्य में भी पाया जाता है।
द्वितंतुक अणुएकल तंतुक अणु
डीआक्सीराइबोज शर्करा युक्तराइबोज शर्करा युक्त
DNA केवल अक कार्य करता है RNA के कई विभेद जैसे mRNA , tRNA ,TRNA के विभिन्न कार्य है
DNA स्वयंद्विगुणित हो सकता है RNA का संश्लेषण एक DNA टेम्पलेट पर होता है
यह न्यूक्लियोटाइड की एक लंबी श्रृंखला से मिलकर दो-फंसे हुए अणु है। जिससे मिलकर डीएनए बनता है।यह न्यूक्लियोटाइड की छोटी श्रृंखलाओं वाले एकल-भूग्रस्त हेलिक्स हैl जिससे मिलकर आरएनए बनता है।
डीएनए अल्ट्रावायलेट किरणों से छतिग्रस्त हो सकता है।आरएनए पर अल्ट्रावायलेट किरणों का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।
डीएनए नई कोशिकाओं और जीवो को उत्पन्न करने तथा उनकी अनुवांशिक जानकारी को एकत्रित करता है और इसको स्थानांतरित भी करता है।आरएनए इसका प्रयोग आनुवंशिक सूचकांक को न्यूक्लियस से राईबोसोम में प्रोटीन बनाने के लिए और डीएनए की प्रतिलिपि के दिशानिर्देशों को ले जाने में किया जाता है।
DNA स्वयं से प्रतिकृति है या स्वयं से ही बनता रहता है।RNA स्वयं से प्रतिकृति या स्वयं से नहीं बनता है इसको आवश्यकता होने पर डीएनए से संश्लेषित किया जाता है।
इसमेें एडेनिन, ग्वानिन, साइटोसिन और थाइमिन नामक चार नाइट्रोजनी क्षार होते हैं।RNA में थायमीन नामक क्षार नहीं होता है उसकी जगह पर यूरेसिल नामक क्षार होता है।
किसी भी सेल के लिए DNA की मात्रा तय होती है।किसी भी सेल के लिये RNA की मात्रा बदल सकती है।
डी.एन.ए. की बेस पेरिंग एटी(AT) और जीसी(GC) है।आर. एन. ए. की बेस पेरिंग ए.यू.(AU) और जीसी(GC) है।
यह एक लम्बी बहुलक श्रृखला है |यह एक छोटा बहुलक है |
यह क्रोमोसोम या क्रोमेटिन फाइबर के रूप में होते है |यह राइबोसोम में होता है या इसके रूपों या प्रकारों को राइबोसोम के साथ संबध होता है
इसके पिघलने के बाद पुनर्जन्म धीमी गति से होता है |यह तेज गति से
DNA का जीवन लम्बा है |इसका जीवन छोटा है कुछ RNA के पास बहुत कम जीवन है लेकिन कुछ लम्बे समय तक है |
DNA स्वयं से ही बनता रहता है |RNA स्वयं से ही नहीं बनता रहता है |
DNA और RNA में अंतर|डीएनए और आरएनए में अंतर

डीएनए किसे कहते हैं

डीएनए एक मॉलिक्यूल होता है जिसमें किसी भी इंसान और लगभग सभी प्राणी का जेनेटिक कोड मौजूद होता है. डीएनए जानवरों, पौधों, प्रोटिस्ट और बैक्टीरिया में भी मौजूद होता है. डीएनए हर जीव के प्रत्येक कोशिका में होता है और यही निर्धारित करता है कि कोशिका क्या प्रोटीन बनाएंगे|

डीएनए और आरएनए में अंतर
डीएनए और आरएनए में अंतर

डीएनए सभी जीवों में एक वंशानुगत पदार्थ है। डीएनए में डीऑक्सीराइबोज नामक शर्करा होती है यह केवल कोशिकाओं के केंद्रक में पाई जाती हैं। डीएनए में यूरेसिल की कमी होती हैं। इसमेें एडेनिन, ग्वानिन, साइटोसिन और थाइमिन नामक चार नाइट्रोजनी क्षार होते हैं।  

डीएनए की खोज किसने की थी?

DNA की खोज सर्वप्रथम फिद्रीक मीश्चर ने किया था। इसकी संंरचना डबल हेलिक्स होती हैं जिसकी खोज वाटसन और क्रीक ने 1953 में की थी। वाटसन और क्रीक ने डीएनए का मॉडल प्रस्तुत किया था 

डीएनए का फुल फॉर्म/Fullform of D.N.A.

DNA का Full Form Deoxyribo Nucleic Acid/डीऑक्सीराइबोज न्यूक्सिक्लिक एसिड/ होता हैं।

डीएनए के प्रकार (Types Of D.N.A)

डीएनए का मूल से रूप कोई प्रकार नहीं होता है। लेकिन द्विकुंडल के घूर्णन के आधार पर डीएनए के दो प्रकार  होता है।

  1. दक्षिणावर्ती डीएनए या B-D.N.A
  2. वामावर्त डीएनए या Z-D.N.A

डीएनए के कार्य(Funtion Of D.N.A)

 डीएनए का प्रमुख कार्य अनुवांशिक गुणों को एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में ले जाना होता है।

डी एन ए की संरचना

डीएनए जीवित कोशिका के केन्द्रक में गुणसूत्रों के रूप में होता है। डीएनए की कुछ मात्रा माइटोकॉण्ड्रिआ में भी पाया जाता है जिसे mtDNA या माइटोकॉन्ड्रियल डीएनए कहा जाता है। यह एक घुमावदार सीढ़ी की तरह की रचना होती है। डीएनए का एक अणु चार अलग अलग चीज़ों से बना होता है जिन्हे न्यूक्लिओटाइड कहते हैं। इन न्यूक्लिओटाइड की रचना मुख्य रूप से नाइट्रोजन से होती है। इन न्यूक्लिओटाइड को एडेनिन, ग्वानिन, थाइमिन और साइटोसीन कहा जाता है। इसमें डिऑक्सीरिबोज़ नमक शक्कर भी पाया जाता है। इन न्यूक्लिओटाइड को फॉस्फेट का अणु जोड़ता है। इसमें साइटोसीन और थाइमिन का एक रिंग होता है जिसे पीरिमिडीन कहा जाता है जबकि एडेनिन और गवानीन के रिंग को प्यूरिन कहा जाता है।

DNA प्रतिकृति(DNA Replication)

डीएनए के द्वारा अपने समान नया डीएनए बनाने की प्रक्रिया को डीएनए प्रतिकृति कहते है।

आर एन ए (RNA)क्या है(Ribonucleic acid) ?

RNA भी एक प्रकार का न्यूक्लिक एसिड होता है जो अनुवांशिक होता है। एक इसमें राइबोज श्रृंखला होती है। यह कोशिकाओं के केंद्र के अतिरिक्त यह कोशिका द्रव्य में भी पाया जाता है।

डीएनए और आरएनए में अंतर|rna
डीएनए और आरएनए में अंतर

यह राइबोसोम कोशिकांग के समग्र भाग को बनाता है तथा इसकी संरचना एकल सूत्र संरचना होती है ।

आरएनए का फुल फॉर्म/Fullform of RNA

आरएनए का Full Form या पूरा नाम राइबोन्यूक्लिक एसिड (Ribose Nucleic Acid) होता है।

RNA की खोज किसने की थी ?

RNA की खोज  सेवेरो ओकोआ, रॉबर्ट हॉली और कार्ल वोसे को जाता हैं।

आरएनए का क्या कार्य होता है ?

आरएनए का प्रमुख का प्रोटीन का निर्माण करना होता है।

आरएनए के प्रकार कितने होते हैं ?

RNA कुल 3 प्रकार के होते हैं।

  1. संदेशवाहक आरएनए (Messenger RNA) या mRNA
  2. राइबोसोमल आरएनए (Ribosomal RNA) या rRNA
  3. स्थानांतरण आरएनए (Transfer RNA) या tRNA

संदेशवाहक आरएनए (Messenger RNA) या mRNA

इनका निर्माण केन्द्रक में उपस्थित DNA पर ट्रांसक्रिप्शन की क्रिया द्वारा होता है ये कोशिका की कुल RNA का 3-5% होता है |इसका आणविक भार 500000 से 2000000 होता है |

राइबोसोमल आरएनए (Ribosomal RNA) या rRNA

ये RNA के संरचनात्मक अणु होते है यह कोशिका की कुल RNA का 80% होता है इसका मुख्य कार्य राइबोसोम के संरचनात्मक संगठन में सहायता प्रदान करना है |

स्थानांतरण आरएनए (Transfer RNA) या tRNA

यह सभी RNA में सबसे छोटा RNA है यह कोशिका की कुल RNA का 15-18% होता है यह कोशिका द्रारव्इय में पाया जाता है |इसका कार्य विभिन्न प्रकार के अमिनो अम्लो को राइबोसोम पर लेट है ,जहाँ प्रोटीन का संश्लेषण होता हो

इन्हे भी पढ़े :-

हिंदी वर्णमाला [Hindi Varnamala]|हिंदी वर्णमाला (स्वर और व्यंजन)|Hindi Alphabet Varnamala
सदिश राशि और अदिश राशि में अंतर उदाहारण सहित|Difference Between Vector and Scalar Quantity
अम्ल और क्षार में अंतर उदाहरण सहित |Difference Between Acid and Base With Example
गैस और वाष्प में अंतर देखे| वाष्प भाप और गैस में अंतर|Difference Between Gas and Steam in Hindi
चाल और वेग में अंतर |वेग और चाल में अंतर |difference Between Speed and Velocity
उत्तल लेंस और अवतल लेंस में अंतर,परिभाषा | Difference Between Convex And Concave Lens
अनुदैर्ध्य तरंग और अनुप्रस्थ तरंग में अंतर | Difference Between Transverse Wave and Longitudinal Wave

Leave a Comment

Your email address will not be published.