संज्ञा किसे कहते हैं|संज्ञा sangya – परिभाषा, भेद एवं उदाहरण| Noun in hindi

संज्ञा किसे कहते हैं? परिभाषा, प्रकार, भेद, एवं उदाहरण (Sangya): Sangya kise kahate hain? क्या आप जानना चाहते हैं की संज्ञा क्या है? तो आइये पेज को नीचे की तरफ स्क्रॉल करें और जानें संज्ञा किसे बोलतेहैं, संज्ञा कितने प्रकार की होती है, और संज्ञा के प्रकार के उदाहरण| हम यह दावा कर सकते हैं की इस पोस्ट ध्यान से अंत तक पढ़ने के बाद आप यह अच्छे से समझ पाएंगे की संज्ञा क्या है (संज्ञा किसे कहते हैं)|

संज्ञा किसे कहते हैं (Sangya Kise Kahate Hain)

Table of Contents

संज्ञा किसे कहते हैं|संज्ञा
संज्ञा किसे कहते हैं

संज्ञा की परिभाषा (Sangya Definition in Hindi):- संज्ञाको नाम भी कहा जाता है |” किसी व्यक्ति, वस्तु, प्राणी, गुण, भाव या स्थान आदि का ‘नाम’ ही संज्ञा कही जाती है |

दूसरे शब्दों में किसी का नाम ही उसकी संज्ञा है तथा इस नाम से ही उसे पहचाना जाता है संज्ञा न हो तो पहचान अधूरी है और भाषा का प्रयोग भी बिना संज्ञा के संभव नहीं है |

Note:- संज्ञा एक विकारी शब्द है।

संज्ञा के उदाहरण (Sangya Ke Udahran)

  • व्यक्ति का नाम – रोहित, अजय, विराट कोहली, ओम, राकेश, शंकर 
  • वस्तु का नाम –  कलम, मेज, चारपाई, कंघा ,टीवी
  • गुण का नाम –  सुन्दरता, ईमानदारी, बेईमानी, चालाकी
  • भाव का नाम – प्रेम, ग़ुस्सा, आश्चर्य, दया, करूणा, क्रोध,वीरता
  • स्थान का नाम – आगरा, दिल्ली, जयपुर उत्तर प्रदेश ,बल्लिया

संज्ञा के भेद (Sangya Ke Bhed)

व्युत्पति के आधार पर संज्ञा तीन प्रकार की होती है :-

  1. रूढ़
  2. यौगिक
  3. योगारूढ़

अर्थ की दृष्टि से संज्ञा पांच प्रकार का होता है :-

  1. व्यक्तिवाचक संज्ञा – Vyakti Vachak Sangya
  2. जातिवाचक संज्ञा – Jativachak Sangya
  3. भाववाचक संज्ञा – Bhav vachak Sangya
  4. समूहवाचक संज्ञा – Samuh Vachak Sangya
  5. द्रव्यवाचक संज्ञा – Dravya Vachak Sangya

व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं – Vyakti Vachak Sangya Kise Kahate Hain

जो किसी व्यक्ति ,स्थान ,या वस्तुका बोध कराती है व्यक्तिवाचक संज्ञा कहते है | जैसे -राम ,पटना ,गंगा आदि जैसे:- राम या पटना , यहाँ राम नाम प्रत्येक व्यक्ति का नाम नहीं हो सकता, किसी एक का ही होगा। पटना देश या दुनिया के प्रत्येक शहर का नाम नहीं हो सकता।

व्यक्तिवाचक संज्ञा शब्द सदैव एक वचन में ही प्रयुक्त होते हैं. इनका बहुवचन जातिवाचक संज्ञा शब्द बन जाता है. जैसे: जयचंद – चयचंदों, अशोक – अशोकों आदि. व्यक्तिवाचक संज्ञा में हम जिस व्यक्ति, वस्तु या स्थान कि बात कर रहे होते हैं, वो इकलौता होता है।

Note:- यदि कोई जातिवाचक संज्ञा शब्द किसी वाक्य में व्यक्ति विशेष को प्रकट करने लगे तो वहाँ उसमें व्यक्तिवाचक संज्ञा होगी, न की जातिवाचक संज्ञा. जैसे: 

  • शास्त्री – शास्त्री जी एक ईमानदार प्रधानमंत्री थे.
  • मोदी – मोदी जी भारत के प्रधानमंत्री हैं.
  • गाँधी – गाँधी जी के नेतृत्व में भारत को आज़ादी मिली.
  • नेताजी – नेताजी की मृत्यु आज भी एक रहस्य है.
  • पंडित जी – पंडित जी भारत के प्रथम प्रधानमंत्री थे.

व्यक्तिवाचक संज्ञा के उदाहरण

  • रोहित जाता है।
  • श्याम मेरा भाई है.
  • विराट कोहली एक महान बल्लेबाज है
  • ताजमहल आगरामें है
  • दिल्ली भारत की राजधानी है।
  • मैं उत्तर प्रदेश में रहता हूँ.
  • महेश की भैंस भाग गई.
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विदेश गए.

जातिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं

जो संज्ञा किसी जाति का बोध कराती है,वे जातिवाचक संज्ञा कही जाती है | जैसे: पशु, कवि, बिल्ली,लड़की नदी, पहाड़, महासागर, महाद्वीप इत्यादि|

‘नदी ‘ जातिवाचक संज्ञा है क्योकि यह सभी नदियों का बोध कराती है किन्तु गंगा एक विशेष नदी का नाम है इसलिए गंगा व्यक्तिवाचक संज्ञा है |

  • दूसरे उदाहरण से समझिये :-
  • शेर, गाय,हाथी और खरगोश सभी अलग-अलग हैं, लेकिन इन सभी को एक जाति से संबोधित किया जा सकता है और उस जाति का नाम “जानवर” है।
  • यहाँ जानवर शब्द किसी एक विशेष जानवर के बारे में नहीं बता रहा है क्योंकि जानवर शब्द से किसी एक जानवर के बारे में पता चलने के बजाय संपूर्ण जाति (जानवर) के बारे में पता चलता है। अतः “जानवर” जातिवाचक संज्ञा है। इसी प्रकार शहर, बालक, गाँव आदि जातिवाचक संज्ञा है।

जातिवाचक संज्ञा के उदाहरण

  • महिलाएँ शहर जा रही हैं.
  • बिल्ली चूहे का शिकार करती है.
  • पक्षी पेड़ पर रहते हैं.
  • मानव सबसे बुद्धिमान होते हैं.
  • हाथी विशाल जीव है.

भाववाचक संज्ञा किसे कहते हैं – Bhav vachak Sangya Kise Kahate Hain

किसी भाव, गुण, दशा और अवस्था का ज्ञान करवाने वाले शब्द को भाववाचक संज्ञा कहते हैं। जैसे: क्रोध, प्रसन्नता, प्रेम, आश्चर्य, लालच, जवानी इत्यादि

Note:- भाववाचक संज्ञा शब्द सदैव एकवचन में ही प्रयुक्त होते हैं. इनका बहुवचन जातिवाचक संज्ञा का बोध करवाता है|भाववाचक संज्ञा शब्दों का निर्माण किसी जातिवाचक संज्ञा / सर्वनाम / विशेषण / क्रिया तथा अव्यय में -आव ,त्व,पन ,अन इमा,ई,हट आदि प्रत्यय जुड़कर किया जाता है|

भाववाचक संज्ञा के उदाहरण 

  • क्रोध, प्रसन्नता, प्रेम, आश्चर्य –  शब्द भाव का बोध करवा रहे हैं। अतः क्रोध, प्रसन्नता, प्रेम एवं आश्चर्य भाववाचक संज्ञा हैं।
  • सुन्दरता, ईमानदारी –  दोनों शब्द गुण को दर्शाते हैं। अतः सुन्दरता एवं ईमानदारी भाववाचक संज्ञा हैं।
  • बुढ़ापा, बचपन, सुख –  शब्द अवस्था को दर्शाते हैं। अतः बुढ़ापा, बचपन एवं सुख भाववाचक संज्ञा हैं।

जातिवाचक संज्ञा से भाववाचक संज्ञा बनाना

जातिवाचक संज्ञाभाववाचक संज्ञा
बच्चाबचपन
नारीनारीत्व
बालकबालकपन
मित्र मित्रता
पुरुष पुरुषत्व
स्त्रीस्त्रीत्व
युवायौवन
संज्ञा किसे कहते हैं

सर्वनाम शब्दों से भाववाचक संज्ञा बनाना

सर्वनाम शब्द + प्रत्ययभाववाचक संज्ञा
अपना + पनअपनापन
मम + ताममता
मम + त्वममत्व
अहम + कारअहंकार
सर्व + स्वसर्वस्व
संज्ञा किसे कहते हैं

विशेषण से भाववाचक संज्ञा बनाना

विशेषण + प्रत्ययभाववाचक संज्ञा
छोटा + पनछुटपन
बड़ा + पनबड़प्पन
सुंदर + तासुन्दरता
अच्छा + आईअच्छाई
मीठा + आसमिठास
संज्ञा किसे कहते हैं

क्रिया से निर्मित भाववाचक संज्ञा

क्रिया शब्द भाववाचक संज्ञा
घबराघबराहट
मिलमिलावट
मिल मिलाप
काटकटाई
लिखलिखावट
संज्ञा किसे कहते हैं

अव्यय से भाववाचक संज्ञा बनाना

अव्ययभाववाचक संज्ञा
नीचेनिचाई
समीपसमीपता
संज्ञा किसे कहते हैं

इन्हे भी पढ़े

समूहवाचक संज्ञा किसे कहते हैं – Samuh Vachak Sangya Kise Kahate Hain

जो संज्ञा शब्द किसी एक व्यक्ति का वाचक न होकर समूह \समुदाय का वाचक हो उसे समूहवाचक संज्ञा या समुदाय वाचक संज्ञा कहते हैं। जैसे: कक्षा, संसद, भीड़, ढेर, दल, सेना, सभा, परिवार, कक्षा, मेला, सेना, पुलिस इत्यादि. यहाँ सभी शब्द एक समूह का बोध करवाते हैं। अतः संसद, भीड़, ढेर, दल, सेना, सभा, परिवार, कक्षा, मेला, सेना, पुलिस आदि समूहवाचक संज्ञा है।

समूहवाचक संज्ञा के उदाहरण

  • आज गाँव में सभा है.
  • कल संसद में बहुत बहस हुई
  • हम सभी बाजार गए थे
  • भीड़ ने दस लोगों को कुचल दिया
  • भारतीय सेना विश्व की सबसे ताकतवर सेना में से एक है

द्रव्यवाचक संज्ञा किसे कहते हैं – Dravya Vachak Sangya Kise Kahate Hain

जिस संज्ञा शब्द से उस सामग्री या पदार्थ का बोध होता है जिससे कोई वस्तु बनी है |उसे द्रव्यवाचक संज्ञा किसे कहते हैं |

  • ठोस पदार्थ :- सोना, चाँदी, लोहा ,उन आदि
  • द्रव पदार्थ :-तेल ,घी ,दही पानी आदि
  • गैसीय पदार्थ :-ऑक्सीजन, हाइड्रोजन, नाइट्रोजन आदि

द्रव्यवाचक संज्ञा के उदाहरण

  • रोहित को पानी पीना है
  • सोना बहुत महँगा हो गया है
  • गाय का दूध मीठा होता है
  • ऑक्सीजन जीवन के लिए ज़रूरी है
  • लोहे में जंग लग गई

हम उम्मीद करते हैं इस पोस्ट (संज्ञा किसे कहते हैं) की मदद से हम आप तक अपनी बात आसानी से पहुंचा पाए होंगे, और आपको संज्ञा का ज्ञान अच्छे से हो गया होगा| यदि आपको संज्ञा के बारे में और कुछ जानना हो तो आप हमें कमेंट करके अपने सुझाव आसानी से भेज सकते हैं| हम पूरा प्रयास करेंगे की आपके पूछे गए प्रश्नों का हम सबसे उत्तम उत्तर आपको उपलब्ध कराएं|

संज्ञा से कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न –

संज्ञा किसे कहते हैं?

किसी व्यक्ति, वस्तु, प्राणी, गुण, भाव या स्थान के नाम के घोतक शब्द को संज्ञा कहते हैं।

संज्ञा के कितने भेद हैं?

संज्ञा के पाँच भेद हैं|

Leave a Comment

Your email address will not be published.